in

बिहार के प्लस-टू स्कूलों के लाखों छात्रों को मुफ्त में मिलेगी वाईफाई सुविधा, फिलो एप पर मिलेगी फ्री ट्यूशन

डिजिटल इंडिया के तहत डिजिटल बिहार का सपना साकार होने वाला है। प्लस टू स्कूलों को अब हाईटेक बनाने की तैयारी हो रही है। शिक्षा विभाग की कोशिश है कि बिहार के उच्चतर विद्यालयों के छात्र इंटरनेट की दुनिया से जुड़ सके। शिक्षा विभाग 9 हजार से ज्यादा उच्चतर विद्यालयों को वाईफाई लैस करने जा रहा है। इसके लिए शिक्षा विभाग जल्द ही टेंडर निकालने की तैयारी में है। वहीं, बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि स्कूली शिक्षा में डिजिटल टेक्नोलाजी को प्राथमिकता के आधार पर बढ़ावा मिलेगा।

बता दें, हाल ही में बिहार के कॉलेजों को वाईफाई से जोड़ा गया है और अब उच्चतर विद्यालयों यानी हायर सेकेंडरी स्कूलों को भी वाईफाई से जोड़ा जाएगा दूसरे शब्दों में कहें तो, बिहार के लाखों छात्र अब मोबाइल पर भी पढ़ाई कर सकेंगे। शिक्षा विभाग ने इसके लिए खाका तैयार कर लिया है। बताया जा रहा है की शिक्षकों को शिक्षा में डिजिटल टेक्नोलाजी के इस्तेमाल के संबंध में प्रशिक्षण भी किया जाएगा।

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने बताया कि प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था में डिजिटल टेक्नोलाजी का इस्तेमाल बढऩे जा रहा है। इसी साल से सभी 9,360 माध्यमिक तथा उच्च माध्यमिक विद्यालयों में इंटरनेट और वाई-फाई की निशुल्क सुविधा उपलब्ध होगी। तो वहीं विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, स्कूलों को वाईफाई मुहैया कराने वाली एजेंसी के लिए आरएफसी यानी टेंडर निकाला जाएगा।

यह भी पढ़ें: Jharkhand Illegal Mining Case: IAS पूजा सिंघल के गुप्त ठिकानों पर ED की रेड आज भी जारी, खनन सचिव के पद से हो सकती है छुट्टी

इसके अलावा आपको बता दें, सरकार ने सभी छात्र-छात्राओं को फिलो डिजिटल प्लेटफार्म निशुल्क उपलब्ध कराया है। एप पर सवाल पूछते ही 60 सेकेंड के अंदर छात्रों से ट्यूटर जुड़ेंगे और सवाल को हल करने के तरीके बताएंगे। साथ ही, क्लासरूम के दायरे से बाहर जाकर छात्र-छात्राओं को फिलो डिजिटल प्लेटफार्म प्रदान करने वाला बिहार देश का पहला राज्य बन गया है। इस एप के जरिए छात्र-छात्राएं बिहार बोर्ड की परीक्षा, जेईई-मेंस, नीट जैसे परीक्षाओं की तैयार कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें: Bihar News: रेलमार्ग से जुड़ जाएगा मधुबनी और सुपौल जिला, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव करेंगे उद्घाटन

Read More