in

स्वार्थ की खातिर देश की शांति भंग न करें

Do not disturb the peace of the country for the sake of selfishness