in

हम चाहें तो खुश रह सकते हैं या दुखी, यह सिर्फ नज़रियों का खेल है

If we want to be happy or sad, it is just a game of perspective